शिवांगी-सिंह
Spread the love

वाराणसी(Varanasi) की शिवांंगी सिंह (Women Fighter Pilot Shivangi Singh) एक साधारण परिवार से आती हैं लेकिन उनका जीवन असाधारण होने वाला है| शिवांगी राफ़ेल (Rafale) विमान उड़ाने वाली पहली फाइटर पायलट बनेंगी| भारत में महिला सशक्तिकरण का उदाहरण हैं शिवांगी सिंह|

कैसा है शिवांगी सिंह का सफ़र 

उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के फुलवरिया में एक साधारण से परिवार में जन्मी हैं शिवांगी सिंह| पिता पिता कुमारेश्वर सिंह ट्रेवल एजेंट का काम करते हैं और माँ सीमा सिंह गृहणी हैं| शिवांगी का एक छोटा भाई भी है मयंक जो 12वीं कक्षा में है|

शिवांगी ने अपनी पढाई बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) से की है| शिवांगी स्कूल के दिनों से होनहार रहीं हैं उनका घर मैडल और ट्रोफियों से भरा हुआ है|शिवांगी-सिंह

 

शिवांगी को इंडियन एयर फाॅर्स ज्वाइन करने की प्रेरणा अपने नाना से मिली है| शिवांगी के पिता कुमारेश्वर सिंह बताते हैं की वे एक बार अपने नाना के पास दिल्ली गयीं थी| वहां शिवांगी ने अपने नाना के साथ एयरबेस और म्यूजियम देखा और वहीं से निश्चय कर लिया की बड़े होकर प्लेन उड़ाना है| शिवांगी सिंह ने मेहनत की और अपना सपना साकार कर दिखाया| 

शिवांगी सिंह की पहली उड़ान

शिवांगी ने स्कूल के दिनों से ही एयरफोर्स में शामिल होने का मन बना लिया था| बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) में कॉलेज की पढाई के साथ ही साल 2013 से 2015 तक एनसीसी (NCC) कैडेट ज्वाइन की| शिवांगी सिंह बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) में नेशनल कैडेट कोर(NCC) में 7 यूपी एयर स्क्वाड्रन का हिस्सा रहीं हैं| 

साल 2013 में ही दिल्ली में हुए गणतंत्र दिवस परेड में उत्तर प्रदेश टीम का प्रतिनिधित्व शिवांगी सिंह ने किया था| एयरफोर्स का हिस्सा बनने के लिए अगला क़दम था कॉमन एप्टीट्यूट टेस्ट(Common Apptitude Test) पास करना जिसे शिवांगी ने साल 2016 में मैसूर में क्वालीफाई किया | साल 2016 में ही शिवांगी सिंह भारतीय वायु सेना अकादमी हैदराबाद ज्वाइन की थी|

शिवांगी-सिंह

दिसंबर 2017 में हैदराबाद स्थित एयर फोर्स अकादमी से शिवांगी सिंह फाइटर पायलट बनीं| हैदराबाद से ट्रेनिंग खत्म होने के बाद राजस्थान में पोस्टिंग पायी| शिवांगी राजस्थान में फॉरवर्ड फाइटर बेस पर विंग कमांडर अभिनंदन के साथ तैनात थीं जहाँ शिवांगी को मिग-21 बाइसन की पायलट बनने का मौका मिला|

’17 गॉल्डन एरो स्क्वाड्रन ‘ में शामिल होंगी शिवांगी सिंह

शिवांगी-सिंह

फ़्रांस का लड़ाकू विमान राफ़ेल के 17 गोल्डन एरो स्क्वाड्रन में पहली महिला फ्लाइट लेफ्टिनेंट शिवांगी सिंह होंगीं| शिवांगी सिंह को दुसरे फाइटर पायलट बैच का हिस्सा बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है जो भारतीय लड़ाकू विमान राफ़ेल उड़ाने की ट्रेनिंग लेंगे| शिवांगी अंबाला स्थित एयरबेस पर राफ़ेल विमान उड़ाने का प्रशिक्षण लेंगी|

शिवांगी सिंह राफ़ेल विमान उड़ाने वाली पहली महिला बनने का गौरव प्राप्त हुआ है| शिवांगी सिंह की इस अद्भुत उपलब्धि के लिए उनका परिवार खुशियाँ माना रहा है| पिता कुमारेश्वर सिंह कहते हैं “बेटी शिवांगी ने देश में उनका नाम रोशन कर दिया| शिवांगी लाखों लड़कियों और उनके माता-पिता के लिए एक मिसाल है|”


Spread the love